संदेश

धर्म परिवर्तन ( कहानी)

कहानी
"ये पंडित जी को क्या हो गया ? बुढ़ापे में साठिया गए जो ईसाई धर्म अपना लिया।" मोहल्ले में सब पंडित जी की थू - थू कर  रहे थे। पूरा बामन मोहल्ला पंडितजी के धर्म परिवर्तन को ले कर तरह तरह की बाते बना रहा था । मगर पंडित जी इन सब बातों की कोई फिक्र न थी।
पंडित जी से मेरी मुलाकात सिर्फ साल भर पहले की थी। पिछले साल जनवरी में , मैं जोधपुर तबादले पर आया था । तो सरकारी क्वाटर मिला नही था। जिस वजह से मुझे पंडित जी के घर मे रेंट पर रहना पड़ा। पंडित जी एक  दम शुद्ध शाकाहारी । मुझे आते ही फरमान सुना दिया कि देखो भाई ज्यादा तर फौजी सर्वाहारी होते हैं, मगर जब तक आप लोग इस घर में रहेंगे कुछ भी तामसिक भोजन नही करेंगे। मैं भी ठहरा शुद्ध ब्राह्मण जो लहसुन प्याज भी न छुए। पंडित जी का घर दोमंजिला था । जिसमें से दो कमरे उन्होंने किराये पर उठा दिए थे, बाकी का घर वो ख़ुद और खुद के बच्चों के लिए रखते थे। पंडित जी सरकारी स्कूल मास्टर थे। सो कुछ उनकी पेंशन आ जाती थी ।पिछले साल जब में जोधपुर आया था तब उनके घर पर सिर्फ सात बच्चे थे। मगर पिछले साल में उनके घर मे 16 बच्चे हो गए । जिनका खर्च शायद पेंशन स…

इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीनों से आगे : ऑनलाइन वोटिंग का विकल्प

क्यों करतें हैं सोमवार व्रत (व्यंग्य )

सोमवार सदा से पवित्र माना जाता है, सदा ही लोग इस दिन व्रत कर ते आये हैं।  वे लोग जो धर्म कर्म की कम जानकारी रखते हैं , वे इस बात से हमेशा चिंताग्रस्त रहते हैं  कि सोमवार का वृत्त क्यों रखा जाता है. मेरे मित्र सेनादास ने यही प्रश्न बाबा लटूरी आईआइटीयन  से जब किया तो  वे  थोड़ी टेंसन में आ गये मगर फिर सोच कर उन्होंने जो मेरे प्रश्नों का उत्तर अपनी टेक्नीकल थिओरी के द्वारा दिया उसे सुन कर मेरे मित्र सेनादास के दिमाग के सारे स्रोत खुल गए -
१. "सोमवार वीक का पहला दिन होता है यानि कि लंबा वीकेंड के बाद पुनः ऑफिस जाना। " यह बात इतनी भयावह और डरावनी होती हैं की आदमी संडे का आनंद भूल सोमवार के गम  में डूब जाता है।  कई बार बोस नाम का प्राणी इतना डरावना महसूस होने लगता है की आदमी मजबूरीवश भूतनाथ यानि की महादेव की शरण में चला जाता है।

२. कई बार व्यक्ति अपने वीकेंड में किये गए पाप-पूर्ण कार्यकलापों के पश्चाताप के फलस्वरूप प्राप्त गिल्टी फीलिंग को मिनिमाइज करने के लिए आशुतोष भगवान् की पूजा  करता है।

३. कई लोग वीकेंड में पत्नी द्वारा की गई अंधाधुन्द शॉपिंग में हुए खर्चे का खामियाज़…

इस दिवाली ह्रदय जलायें

जब कहीं अँधेरा होता है,
जब कोई भूंखा सोता है,
जब कोई बच्चा रोता  है,
जब कोई अपना खोता हैं,
जब दर्द किसी को होता है,
तब दर्द कवि को होता है.
और ह्रदय कवि का रोता है.

जब कहीं दिवाली होती है
और कहीं अँधेरा होता है.
जो  पेट भरे हों माखन से
उनको लड्डू मिल  जाते हैं।
जिनको ना रोटी मिल पाती
वे भूंखो ही सो जाते हैं.

परंपरागत दिवाली तो सदा मनी है , सदा मानेगी।   
इस बार नया एक चलन चलाएं। 
भरपेटों को क्या  स्वीट खिलाना,
कुछ भूखों  को भोज कराएं।
जहाँ भरा है अँधियारा उन,
झोपड़ियों में दीप जलाएं।
इस दिवाली कुछ नया मनाएं।
दीप सदा ही जलते आये,
इस बार मित्र हम  ह्रदय जलायें।


पागलों को परवाह है देश की,और बुद्धिजीवी बेपरवाह हैं

कल मैं दिल्ली के बजीर पुर डिपो बस स्टैंड पर खड़ा देख रहा था  कि एक  पागल- सा युवक सड़क पर एक डंडा  लहरा कर दिल्ली सरकार का विरोध कर रहा है.लोग उस की बातों पर कोई ध्यान नहीं दे रहे थे . और देते भी क्यों वह एक पागल जो था .  वह कभी -२ जोश में आ कर डंडे को जोर से हवा में लेहरा  देता . वह चाहता था कि सरकार  जबाव दे कि वह अपने फायदों की परवाह न करते हुए,दिल्ली में शराब पर पूरी तरह से रोक क्यों नहीं लगा देती .वह चाहता था कि देश में जो गरीबों के उत्थान / विकास के लिए जो कार्यक्रम चलाये जा रहें हैं, उन में पारदर्शिता  आनी चाहिए तथा गरीबों को उन का  मिलाना चाहिए . और गरीबी विकास न हो कर  गरीबों का विकास होना चाहिए।क्यों कि गरीबों को राशन देनें से गरीब  विकास नहीं होगा। गरीबों को रोजगार व   जैसी सुविधा भी होनी चाहिए।यद्यपि मैं देख रहा था की उस के डंडे लहराने वाले कृत्य से सभी लोगों को असुविधा हो रही थी. मगर सब चुप चाप देख रहे थे ( याद  रहे सुन कोई नहीं रहा था  ) किसी को नहीं थी कि उस से मन करे कि उस को मन करे कि भाई तुम्हारे  डंडे लहराने वाले कृत्य से सभी लोगों को असुविधा हो रही है मगर शायद एक ही…

हिंदी का बढ़ता दायरा

 यह लेख मेरा नहीं अपितु श्री अरविन्द जय तिलक जी का है,जो एक स्वतंत्र टिप्पणीकार हैं] यह लेख एक समाचार पत्र में प्रकाशित हुआ था,उसी की क प्रतिलिपि में अपने कुछ अंग्रेजी हिंदी प्रेमी मित्रों के लिए पेश कर रहा हूँ)         हिंदी के प्रचार-प्रसार को लेकर अब शोक जताने, छाती पीटने और बेवजह आंसू टपकाने की जरूरत नहीं है। हिंदी अपने दायरे से बाहर निकल विश्वजगत को अचंभित और प्रभावित कर रही है। एक भाषा के तौर पर उसने अपने सभी प्रतिद्वंद्वियों को पीछे छोड़ दिया है। विगत दो दशकों में जिस तेजी से हिंदी का अंतरराष्ट्रीय विकास हुआ है और उसके प्रति लोगों का रुझान बढ़ा है वह उसकी लोकप्रियता को रेखांकित करता है। शायद ही विश्व में किसी भाषा का हिंदी की तर्ज पर इस तरह फैलाव हुआ हो। इसकी क्या वजहें हैं, यह विमर्श और शोध का विषय है। लेकिन हिंदी को नया मुकाम देने का कार्य कर रही संस्थाएं, सरकारी मशीनरी और छोटे-बड़े समूह उसका श्रेय लेने की कोशिश जरूर कर रहे हैं। यह गलत भी नहीं है। यूजर्स की लिहाज से देखें तो 1952 में हिंदी विश्व में पांचवें स्थान पर थी। 1980 के दशक में वह चीनी और अंग्रेजी भाषा के बाद तीसरे स्थ…

आखिर कब तक हम बाबाओं के माया जाल में पड़े रहेंगे ?

आज पूरे दिन "स्टार न्यूज़" की पूरे दिन की एक मात्र मुख्य खबर रही कि किस तरह से उन्होंने एक बाबा के धन का पर्दाफाश किया.किस तरह वह बाबा अपनी भोली-भाली भक्त मंडली से धन खींचता था?कितना धन उस बाबा ने देश की भोली-भाली जनता से कमाया? बगैरा-बगैरा ...                    मेरे ख़याल से यह कोई पहली बार नहीं है,जब किसी बाबा ने ऐसे लालच-पूर्ण कार्य को अंजाम दिया है.दुनिया भर में ,और विशेष तौर पर हमारे महान देश में तो यह आम बात है.क्यों भला हमीं वो मुर्गें हैं जो हमेशा ठगे जातें हैं?क्यों हम से ही कोई बाबा या ठग हमारे खून पसीने की कमाई का एक हिस्सा धर्म के नाम पर लूट कर अपने ऐसो-आराम में खर्च करता है,और मजे लूटता है? क्यों ?क्या हम इतने बड़े **तिये नज़र आतें हैं? जब भी मै टी.वी. पर उस कथित बाबा के समागम देखता था,मुझे आश्चर्य होता था कि उस में बड़े-बड़े उच्च शिक्षित लोग शिरकत करते थे,और कई धर्मों के लोग उस भीड़ में शामिल होते थे.वे सब  बस एक ही बात तोते कि तरह बोलते थे-"बाबा आप की कृपा से मेरे सारे सपने पूरे हो गए ." या फिर " बाबाजी आप की कृपा से मेरा बेटा जो…