मेरा डेली रूटीन ....

वो बिन बादल बरसातों में , किसी को याद करना , बिना बात के हँसना, और रोना ... उसकी तस्वीर ,जो मन में बसी है को सामने बिठाना और बिन बोले बात करना , फिर हँसना ,छूना ,छेड़ना और बांहों में ले के सहलाना ... और फिर उसी के ख्वाबों मे सो जाना... यही है मेरा daily rutiene... तुमसे ही शुरू और तुम्ही पर ......

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

धर्म परिवर्तन ( कहानी)

हिंदी का बढ़ता दायरा

क्यों करतें हैं सोमवार व्रत (व्यंग्य )