संदेश

June 6, 2007 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

मेरे सपनों में ....

सपनों में तुम ही रहती हो ,
 सपनों में तुम ही रहती हो।
जीवन भर चलाना है संग -संग ,.....
चुपके से मुझ से कहती हो ......
.सपनों में तुम ही रहती हो।
प्यार किया है ,तुम से मैंने ,
प्यार का मोल चुकाना होगा ।
खुशियाँ हैं महंगी इस जग में ,
उन का कर्ज़ चुकाना होगा।
मेरी खातिर दर्द ,ख़ुशी से ,
दुनिया के सारे सहती हो। १.
सपनों में तुम ही रहती हो  तेरे -मेरे मधुर मिलन  से , यह सारी दुनिया जलती है।  ना जाने अपनी ये जोड़ी , इन के मन में क्यों खलती है। तेरे बिन एक पल नहीं जीना , मुझ से तुम अक्सर कहती हो।२. सपनों में तुम ही रहती हो.....  जिस दिन भूलें हम तुम को वह ,  जीवन का अन्तिम दिन हो।  साथ तेरा हो तो पा लेंगे,  मंजिल कितनी भी मुश्किल हो । साथ ज़िन्दगी भर रहने का , वादा है सच-सच कहती हो ।३. सपनों में तुम ही रहती हो.... सपनों में तुम ही रहती हो ,  सपनों में तुम ही रहती हो। जीवन भर चलना है  संग-संग  चुपके से मुझ से कहती हो. 
सपनों में तुम ही रहती हो/